pashu ka bhee banega aadhaar card :आखिर क्यों आवश्यकता पड़ी पशु आधार बनाने की,2024 तक सभी पशु का आधार कार्ड बनाने का लक्ष्य

pashu ka bhee banega aadhaar card :- पशु आधार कार्ड animal aadhar card बनाने का मुख्य मकसद पशुओं का डेटा संग्रह आसानी से किया जा सके जिससे कि पशु आधार से उस पशु का जाति, वर्ग, संघ, वण, वंश, एवं पशु के पूर्व लक्षण और पूर्व पीढ़ी के बारे में आसानी से डाटा मौजूद हो सके !




pashu ka bhee banega aadhaar card
Pashu Ka Bhee Banega Aadhaar Card

What is animal base and animal database? – पशु आधार और पशु डेटाबेस क्या है?

pashu ka bhee banega aadhaar card :- सरकार द्वारा डेयरी पशुओं के लिए एक पहचान संख्या का संख्या कोड जिसे हम डेटाबेस के नाम से जानते हैं उसे पशुओं की इसमें लगभग सभी पशुओं गाय, भैंस, बैल, बछड़ा, बछड़ी, यहां तक कि सांड तक की निगरानी के लिए इस डेटाबेस का प्रयोग किया जाएगा |

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सोमवार को ही 11 सितंबर 2022 के दिन देश को बाय मेट्रिक पहचान की मदर डेयरी में के क्षेत्र में जानवरों का सबसे बड़ा डेटाबेस पशु आधार pashu aadhaar के नाम से उन्होंने ग्रेटर नोएडा मैं 12 सितंबर वर्ल्ड डेरी समिति 2022 के उद्घाटन समारोह में भी शिरकत की,

इस योजना के तहत सभी पशुओं को के स्वास्थ्य (NDDB) पर नजर रखने के लिए उनके कान पर एक टैग दिया जाएगा इसमें डेयरी क्षेत्र के विस्तार में मदद मिलेगी जानवरों की पहचान संख्या के आधार पर जानवरों की डेटाबेस (NDDB)बनाई जा रही है |

pashu ka bhee banega aadhaar card

एवं यूनिक आईडी नंबर पशुधन की आबादी को ट्रैक मैं मदद करेगा, एवं राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड पशु उत्पादन स्वास्थ्य सूचना नेटवर्क विकसित करने के लिए भी इसका उपयोग किया जा सकता है | जिसे आप पशु आधार के नाम से जानते हैं |

इस प्रक्रिया सभी पशुओं को एक बार BAR CORD कोड 12 अंको की उनकी यूआईडी युक्त 1 ईयर टैग प्रदान किया जाएगा | इनमें जानवरों की प्रजातियों और वंशजों की डेटाबेस संग्रहित रहेगा एवं इनके बच्चे दूध उत्पादन टीका कब लगा दोबारा कब लगना है | के बारे में सारी चीजें उस डेटाबेस में संग्रहित रहेंगी |

ढेलेदार त्वचा रोग के लिए केंद्र सरकार की मुहिम

जानवरों में हो रहे ढेलेदार त्वचा रोग के लिए केंद्र सरकार द्वारा एक मुहिम की अनावरण किया गया है, वर्तमान में केंद्र सरकार और राज्य सरकार के लिए ढेलेदार त्वचा रोग का प्रसार को रोकने के लिए काम कर रही है |

जिसमें राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, और पंजाब, सहित, भारत के 8 से अधिक राज्यों में पशुओं की जान लेने वाली ढेलेदार त्वचा रोग, एक संक्रामक वायरस का रूप ले लिया है | जो जानवरों के त्वचा पर बुखार और गांठ का कारण बनता एवं दूध उत्पादन को प्रभावित कर रहा है |

pashu ka bhee banega aadhaar card

जिससे मवेशी की मृत्यु होती जा रही है | बीमारी के लिए एक स्वदेशी टीका विकसित करने के अलावा सरकार इस प्रकोप के कारण जानने के लिए एक बैग या निकों की कमेटी गठित कर दी है | जिससे कि जानवरों की इन लक्षणों पर विशेष रूप से शोध एवं सर्वेक्षण किया जा सके |

पशु आधार के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें ?

How to Apply Online for Animal Aadhar

  • पशु आधार बनाने के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आपको किसान पोर्टल (IANPH) पर जाकर अपने पंजीकरण कराना होगा |
  • आप वहां पर एक नए खाते के लिए क्लिक करना होगा और पोर्टल (INAPH) पर अपनी पंजीकृत कराना होगा |
  • जब पंजीकरण करेंगे उस समय आपके अपने दिए हुए मोबाइल नंबर पर एक सत्यापन कोड भेजा जाएगा जिसे किसान पोर्टल पर आप दर्ज करके आगे की प्रक्रिया चालू रख सकते हैं |
  • पशु पंजीकरण पर क्लिक करें और आवश्यक विवरण एवं दस्तावेज अपलोड करें उसके बाद आपको एक मालिकाना विवरण दर्ज करना होगा तथा उसके लिस्ट चरण में आपको किसान यूआईडी नंबर प्राप्त हो सकते हैं |
pashu ka bhee banega aadhaar card  – महत्वपूर्ण लिंक देखें
Gadgets Update Hindi Home Page LinkClick Here
Liger movie 2022Click Here
Amrita Hospital 2022Click Here
Instagram Joining LinkClick Here
Google NewsClick Here
telegram webClick Here

Leave a Comment