New education policy 2022 – NEP-2021 का क्या प्रभाव होने वाला है

NEP 2020,CTET EXAM,EFFECT ON TEACHING TEACHING, PRE PRIMARY TEACHING EXAM,PRIMARY TEACHING EXAM,UPPER PRIMARY TEACHING EXAM,SECONDRY LEVEL TEACHING EXAM, SPECIAL TEACHER , DISABLE CHIELD,न्यू एजुकेशन पॉलिसी 2020

New education policy 2022 – NEP-2021 का क्या प्रभाव होने वाला है

What will be the effect of NEP (NEW EDUCATION POLICY 2020). Teaching exam or becoming a teacher?-> पहले जहां स्कूल की संरचना 10+2 यानी 5 + 3 +2 + 2 हुआ करता था | जहां 5 क्लास प्राइमरी के 3 क्लास जूनियर के तथा 2 क्लास 9th और 10th के तथा अन्य 2 क्लास 11th और 12th के हुआ करते थे|

NEP 2020 के आ जाने के बाद अब इस पैटर्न में बदलाव किया जा रहा है जिसके बाद जो शुरुआत के 5 क्लास प्राइमरी का हुआ करता था अब वह प्री प्राइमरी(FIVE PREPARATORY YEARS) का हो जाएगा|

New education policy 2020,/PRE PRIMARY LEVEL (प्री प्राथमिक स्तर)

अब जब बच्चा 3 वर्ष के आयु में आएंगे नर्सरी क्लास में जब वह बच्चा 4 साल का होगा तब जाएगा जूनियर KG ( Kinder garden) में उसके बाद जब बच्चा 5 वर्ष का हो जाएगा | New education policy 2020, तब वो जायेगा सीनियर किंडर गार्डन में फिर बच्चा जब 6 वर्ष का होगा तब वो बच्चा जायेगा 1st क्लास में 7 साल का या 7 वर्ष का होने पर वह जाएगा 2nd क्लास में यह सब न्यू एजुकेशन पॉलिसी(NEW EDUCATION POLICY2020) के तहत प्री प्राइमरी में काउंट किए जाएंगे| न्यू एजुकेशन पॉलिसी के तहत इसके टीचर्स को अब प्री प्राइमरी टीचर कहा जाएगा इसमें नर्सरी से लेकर दूसरी कक्षा तक का शिक्षण कार्य होगा |

PRIMARY LEVEL (प्राथमिक स्तर)

अब केवल प्राइमरी में 3rd, 4th, 5th को ही काउंट किया जाएगा और इस स्तर पर शिक्षण कार्य करने वाले टीचर को प्राइमरी टीचर की संज्ञा दी जाएगी|

UPPER PRIMARY LEVEL (उच्च प्राथमिक स्तर)

पहले की ही भांति 6th, 7th और 8th को उच्च प्राथमिक स्तर पर ही काउंट किया जाएगा और इस लेवल पर शिक्षण कार्य करने वाले टीचर को अपर प्राइमरी टीचर या उच्च प्राथमिक टीचर की संज्ञा दी जाएगी|

SECONDARY LEVEL(सेकेंडरी स्तर)

इसमें भी कोई परिवर्तन न्यू एजुकेशन पॉलिसी के तहत नहीं हुआ है पहले की ही तरह अब भी 9th,10th,11th और 12th इसमें काउंट किया जाएगा और इसमें शिक्षण कार्य करने वाले टीचर को पहले की तरह लेक्चरर की ही संज्ञा दी जाएगी|

टीचिंग एग्जाम में कहां होगा परिवर्तन? (Where will change in teaching exam?)

अभी तक सीटेट(CTET) दो ही स्तर पर होता था जिसमें पहला होता था प्राइमरी लेवल तथा दूसरा अपर प्राइमरी लेवल लेकिन न्यू एजुकेशन पॉलिसी 2020 के आने के बाद इसमें बहुत ही बड़ा परिवर्तन होने वाला है अब जहां हम प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी सीटेट एग्जाम को पास कर टीचर बन जाते थे उसमें भी परिवर्तन होने वाला है अब सीटेट का एग्जाम चार स्तरों पर होगा|

टीचिंग में होने वाले अधिक एग्जाम को देखते हुए सीटेट को जॉब के लिए एक ही एग्जाम करने के लिए भविष्य में योजना तैयार की जा रही है जिससे कि एक सिंगल एग्जाम जिसका लेवल अच्छा हो कराकर शिक्षक बनाया जा सकता है| एक PRIMARY लेवल के टीचर बनने के लिए बहुत से स्तरों पर अलग-अलग एग्जाम कराए जा रहे हैं|

जिससे कि चुनाव करने में काफी अधिक समय लग जा रहा है? New education policy 2020, जिसको कम करने के लिए जिस तरह यूनिवर्सिटी स्तर पर एक ही सिंगल एग्जाम नेट(NET) क्वालीफाई करने वाले को इंटरव्यू लेकर टीचर बनने का मौका दिया जाता है|

उसी प्रकार एक CTET-EXAM देकर क्वालीफाई करने वालों को इंटरव्यू लेकर टीचर बनने का मौका दिया जाएगा जिससे कि एग्जाम में लगने वाले अधिक समय को कम किया जाएगा तथा जल्दी से जल्दी टीचर की रिक्तियों को भरा जा सकता है तथा टीचर की कमियों को पूरा किया जा सकता है और अच्छे स्तर की शिक्षा का प्रसार किया जा सकता है |

NEP-2020 का क्या प्रभाव/ Disable and Disadvantage Chieldren

ऐसे बच्चों के लिए स्पेशल टीचर रखना अनिवार्य किया गया है न्यू एजुकेशन पॉलिसी 2020 में इनका विशेष ध्यान रखा गया है कि इस प्रकार के बच्चों को सपोर्ट करने के लिए हर स्तर पर टीचर रखे जाएं जिससे कि वह भी सक्षम हो सकें तथा अपने जीवन में कुछ अच्छा कर सकें | NEP-2020 का क्या प्रभाव, New education policy 2020,

Leave a Comment

icon

Bharat Yojana want to notify you about the latest updates

You can unsubscribe from notifications anytime